12वीं के बाद सीधे एमएड

केंद्र सरकार वर्तमान शिक्षा प्रणाली में सुधार में जुटी है. शिक्षा के गिरते स्तर से चिंतित मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने बीएड और एमएड की पढ़ाई में व्यापक फेरबदल का निर्णय लिया है. अब अगर छात्रों की रुचि शिक्षक बनने की है तो १२वी के बाद सीधे मास्टर बनने के लिए रास्ता साफ़ हो जाएगा. विश्वविद्यालय और कॉलेजों में एक साल की जगह दो वर्षीय बीएड और एमएड कोर्स तो शुरू ही होने जा रहे हैं, इनके अलावा कई इंटीग्रेटेड डिग्री और डिप्लोमा कोर्स भी शुरू होंगे. इसके तहत छात्र-छात्रा १२वीं के बाद अब सीधे एमएड कर सकेंगे. यह कोर्स छह साल का होगा, जिसमें स्नातक और बीएड की पढ़ाई शामिल होगी. आगामी पांच वर्ष में इस तरह के तकरीबन एक दर्जन डिग्री और डिप्लोमा कोर्स शुरू किए जाएंगे

Share with your friend...Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on LinkedInShare on Google+Email this to someone